समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Saturday, March 13, 2010

श्रीगुरुग्रंथ साहिब-अपने हृदय में पवित्र संकल्प धारण करें (shri guru granth sahib-paivitra sankalp dharan karen)

‘राम नाम करता सभ जग फिरै, राम न पाया जाए
गुर के शब्दि भेदिआ, इन बिध वसिआ मन आए।।’
हिन्दी में भावार्थ-
श्रीगुरुग्रंथ साहिब की पवित्र वाणी के अनुसार राम का नाम तो सारा संसार जपता है पर फिर भी किसी को राम नहीं मिलता। गुरु से शब्द ग्रहण कर अगर राम की भक्ति हृदय से की जाये तभी लाभ हो सकता है।
'साई वस्तु परापति होई, जिसु सिउ लाइआ हेतु।’
हिन्दी में भावार्थ-
श्री गुरुग्रंथ साहिब की पवित्र वाणी के अनुसार किसी भी मनुष्य की उपलब्धि उसके अच्छे और बुरे संकल्प के अनुसार ही होती है।
वर्तमान संदर्भ में संपादकीय व्याख्या-यह संसार तो जीव के संकल्प के अनुसार ही उसे दिखाई देता है। श्रीमद्भागवत गीता में यह स्पष्ट किया गया है कि यह संसार परमात्मा के संकल्प के आधार पर ही स्थित है। उसी तरह जीव जैसा संकल्प करता है वैसा ही यह संसार उसके लिये हो जाता है। हम चाहे जिस व्यवसाय या नौकरी में हों अपने संकल्प की शुद्धता पर ही ध्यान देना चाहिए। अगर हम अपने अच्छे कर्म के भी बुरे परिणाम पर विचार करेंगे तो वही सामने आयेगा-उसी तरह बुरा कर्म करेंगे तो चाहे अच्छा सोचें तब भी बुरा परिणाम आयेगा। इसलिये अपने मन में अच्छे कर्म करने के साथ ही उसके अच्छे परिणाम का संकल्प ही धारण करना चाहिये।
अपना संकल्प परमात्मा भक्ति में दृढ़ रूप से स्थित रखने का प्रयास करना चाहिए। केवल मुंह से माला जपते हुए मुख से राम का नाम जपने से तब तक कोई लाभ नहीं हो सकता जब तक उसे हृदय में धारण न करें। दिखावे के लिये नाम जपना या दान करना एक तरह एक ऐसा ढोंग है जिसे सभी पहचान लेते हैं यह अलग बात है कि सामने कोई कहता नहीं है। दूसरा कहे या न कहे पर हम अपने मन में स्वयं जानते हैं कि स्वयं ढोंग कर रहे हैं। कहने का अभिप्राय यह है कि सांसरिक कर्म हो या भक्ति उनको करते समय अपने संकल्प और विचारों की शुद्धता पर ध्यान अवश्य देना चाहिये।
संकलक, लेखक एवं संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
http://deepkraj.blogspot.com

-------------------------
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘शब्दलेख सारथी’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का चिंतन

1 comment:

Tarkeshwar Giri said...

Bahut hi badiya jankari di aapne. Guru givind doi khade, kake lago panw.
Balihari guru aapne , Govind diye batay.

विशिष्ट पत्रिकायें