समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Saturday, June 20, 2009

रहीम के दोहे-परोपकारी लोग धन्य हैं

वे रहीम नर धन्य है, पर उपकारी अंग।
बांटनवारे को लगे, ज्यों मेंहदी के रंग।।
कविवर रहीम कहते हैं कि जैसे मेंहदी बांटने वाले को उसका रंग लग जाता है वैसे ही वे मनुष्य धन्य हैं जो परोपकार में लीन हैं।
रहिमन तब लगि ठहरिए, दान मान सनमान।
घटत मान देखिय जबहिं, तुरतहि करिय पयान।
कविवर रहीम कहते हैं कि किसी स्थान पर तब तक ही ठहरिये जब तक वहां मान सम्मान होता है। जब उसमें कमी देखें वहां से प्रस्थान कर जायें।
वर्तमान संदर्भ में संपादकीय व्याख्या-इस धरती पर विचरने वाले सभी प्रकार के जीव अपना भोजन जुटाते हैं। परमात्मा ने पशुओं को बेजुबान पर उपयोगी बनाया है ताकि मनुष्य अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिये उनका भरण पोषण करता रहे ।
सभी प्रकार के जीवों में नरमादा होते हैं और करीब करीब माता पिता ही अपने बच्चों का भरण पोषण करते हैं। ऐसे में कोई मनुष्य ही अगर अपने परिवार का भरण पोषण कर अपने आपको सिंह समझता है तो यह उसका भ्रम है। उसकी सही पहचान यह है कि वह अपने लिये कर्म करता हुआ दूसरे का भी भला करे। इसके विपरीत लोग अपनी उपलब्धियां बखान करते हुए उसमें काल्पनिक रूप से अपने परोपकारी कर्म भी सुनाते हैं-इससे यह तो सिद्ध होता है कि हर आदमी जानता है कि बिना परमार्थ के उसका कभी कहीं सम्मान नहीं हो सकता इसलिये परमार्थ और दान के किस्से सुनाकर अपने आपको महात्मा साबित करने का प्रयास करते हैं। इसके अलावा कुछ लोग तो ऐसे हैं जो करते थोड़ा दान है पर बताते अधिक हैं। मगर परमात्मा भी उसी व्यक्ति की भक्ति और साधना से प्रसन्न होते हैं जो दूसरों का भला करते हैं।
सज्जन और भक्त आदमी को वहीं टिकना चाहिये जहां न केवल उसका सम्मान होता हो बल्कि वहां के लोग भी दान आदि देने वाले होना चाहिये। स्वार्थी लोगों के बीच रहकर उनसे किसी प्रकार की आशा करना व्यर्थ है। जहां मान सम्मान कम हो और दान आदि भी न किया जाता हो वहां रहने का तो विचार भी नहीं करना चाहिए।
........................................
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
संकलक एवं संपादक-दीपक भारतदीप

2 comments:

परमजीत बाली said...

सुन्दर विचार प्रेषित किए हैं।आभार।

Amrithaa said...

bade acche dohe hain...

विशिष्ट पत्रिकायें