समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Tuesday, March 11, 2008

संत कबीर वाणी:स्वार्थी कभी भक्त नहीं होते

फल कारन सेवा करै, निशि-दिन जांचै राम
कहैं कबीर सेवक नहीं, चाहे चौगुन दाम


संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि जो फल की इच्छा रख कर सेवा करता और दिन-रात भगवान का नाम इसलिए लेता है कि देखें हमारा काम बनता है कि नहीं-अर्थात राम जी कि परीक्षा लेता है-ऐसा सेवक और भक्त तो स्वार्थी है जो अपनी करनी का चारगुना फल चाहता है।

व्याख्या- इस दुनिया में बहुत कम लोग हैं जो निष्काम भाव से भक्ति करते हैं। सभी के मन में कुछ न कुछ इच्छा होती है। ऐसे में आध्यात्म के नाम पर ठगों की बन आती है। किसी के साथ कोई घरेलू, व्यावसायिक और स्वास्थ्य संबधी परेशानी हो तो वह इधर-उधर भटकते हैं। कोई किसी की भक्ति बताता है तो कोई किसी की। कोई मन्त्र बताता है को कोई तंत्र। इस देह के साथ जो संकट होते हैं वह सबके साथ आते हैं पर असली भक्त उनसे विचलित नहीं होते और कई लोग अपनी समस्या के हल के लिए अपने इष्ट तक बदलते रहते हैं। जिस गुरु के पास जाते हैं वह अपने इष्ट का स्मरण करने को कहता है। ऐसे स्वार्थवश भक्ति भाव करने वाले लोग जीवन भर कष्ट में रहते हैं।

2 comments:

mamta said...

आज भी कबीर दास जी की बात कितने मायने रखती है।

परमजीत बाली said...

एक दम सही।

विशिष्ट पत्रिकायें