समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Thursday, May 24, 2007

आओ कुछ क्षणिक मुस्कराएँ

NARAD:Hindi Blog Aggregator

तैय्रारी
--------------
बिकता नहीं माल
उधार पर बेचने की तैयारी है
मूल के साथ
ब्याज वसूलने की बारी है
दोस्तो दूर ही रहना इस
उधार माल से
यह एक बीमारी है
-----------------
यकीन
--------------
इस बाजार में
ज़ज्बातों की कोई
क़दर नहीं भैया
हर माल है एक रुपैया
यकीन मिले तुम्हारी किस्मत
धोखा भी हो सकता है
क्योंकि यहां
बाप बड़ा न भैया
सबसे बड़ा रुपैया
--------------
पहचान
------------
सांप से ज्यादा जहरीला कौन
सिंह से ज्यादा खतरनाक कौन
बिना फन और नुकीले पंजों के
आदमी उनसे भी ज्यादा है
विषैला और भयानक
करता है खेल
रहता है मौन
-----------------
ठेका
------------
इधर पर्यावरण की रक्षा
की बात करते हैं
उधर देते हैं वन कटाई का ठेका
पहले विनाश कर लें
फिर देंगे विकास का ठेका
तुम बिना सांस लिए मर जाओ
तुम्हारी आने वाली पीढ़ियों के
जिंदा रहने का है उनका ठेका
------------------

3 comments:

हरिराम said...

बिल्कुल सच लिखा है ---

पहले वायरस बनाएँ/फैलाएँ, फिर खूब बेच पाएँगे एण्टीवायरस

पहले बीमारी फैलायें, फिर खूब चलेगा अपना क्लिनिक...

यही चल रहा है आजकल...

अनूप शुक्ल said...

बहुत अच्छा लिखा है!

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया लिखते हो।

विशिष्ट पत्रिकायें