समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Saturday, October 17, 2009

संत कबीर वाणी-ढंग से बोलने वाले जिंदगी में कभी नहीं हारते (theek bolne vale nahin harte-sant kabir vani)

मुख आवै सोई कहै, बोलै नहीं विचार।
हते पराई आतमा, जीभ बांधि तलवार।।
भावार्थ-
संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि इस संसार में कुछ लोग ऐसे होते हैं जो मन में जो आता है, वही अपने मुख से बक देते हैं। वह अपनी जीभ का तलवार की तरह उपयोग कर दूसरे की आत्मा को कष्ट पहुंचाते हैं।
बोलै बोल विचारि के, बैठे ठौर संभारि।
कहैं कबीर ता दास को, कबहु न आवै हारि।
भावार्थ-
संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि जब भी कुछ बोलना हो विचार कर बोलें तथा अपने लक्ष्य का ध्यान रखें। जो आदमी सोच समझ कर बोलता है वह जीवन में कभी नहीं हारता।
वर्तमान संदर्भ में संपादकीय व्याख्या-अगर हम अपने देश में आये दिन होने वाले झगड़ों को देखें तो अधिकतर बिना मतलब के होते हैं जो केवल इसलिये पैदा होते हैं क्योंकि आपस में मधुर संवाद करने का तरीका कुछ लोगों को नहीं होता। सबसे पहले तो जातीय झगड़ों की बात करें। अक्सर लोग यही कहा जाता है कि बड़ी जाति के लोग छोटी जाति के लोगों को ढंग से नहीं बुलाते। इससे बड़ी बात क्या होगी कि शायद अपना देश दुनियां में पहला ऐसा देश होगा जहां संबोधन को लेकर भी नियम हैं कि आप अमुक जाति का नाम लेकर नहीं पुकार सकते। यहां जब भी आदमी बौखलाता है दूसरे को उसकी जाति का नाम लेकर गाली देता है। बहुत छोटी लगने वाली यह बात महत्वपूर्ण है जिसे समझना चाहिये। दरअसल इसी बातचीत से पनपे झगड़ों ने समाज में हमेशा ही विघटना पैदा किया जिसके कारण विदेशियों को यहां राज्य का अवसर मिला। शायद यही कारण है कि हमारे प्राचीन मनीषी हमेशा ही मधुर वचन बोलने का संदेश देते रहे क्योंकि वह जानते थे कि समाज में यह एक भयानक बीमारी है कि लोग एक दूसरे के लिये अपशब्दों का प्रयोग करने में नहीं हिचकते जो कि कालांतर में समाज और राष्ट्र के लिये घातक बनता है।

हमने देखा होगा कि मधुर वचन बोलने वाले हमेशा ही अपना काम निकाल जाते हैं। हालांकि इसकी आड़ में कुछ लोग चाटुकारिता भी करते हैं पर इतना तय है कि उनका कोई काम रुकता नहीं है। ऐसे में जहां तक हो सके आदमी बड़ा हो तो उससे हम स्वतः ही नम्रता से बोलते हैं पर अपने से छोटा भी हो तो भी उससे मधुरा शब्दों में बात करें-इस जीवन में पता नहीं कब किसकी आवश्यकता पड़ जाये। आपने सुना होगा कि जहां सुई काम करती है वहां तलवार काम नहीं करती। इसलिये अगर जीवन में हमेशा विजेता की तरह बने रहना है तो अपने शब्दों में मधुरता लायें।
...................................................



संकलक एवं संपादक-दीपक भारतदीप, Gwalior
http://rajlekh.blogspot.com
--------------------------

यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘शब्दलेख सारथी’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का चिंतन

2 comments:

Dr Parveen Chopra said...

बहुत सुंदर लिखा है---काश, इन बातों को हम लोग हमेशा याद रखें तो इस दुनिया का नक्शा ही बदल जायेगा।
पता नहीं क्यों आज कल लोग अक्खड़ता को भी एक स्टेट्स सिंबल सा ही मानने लगे हैं ---एक आध बात तो मजबूरी होती है, लेकिन अगली बार तो मैं ऐसे लोगों से दूर भागता हूं।
दीवाली की बहुत बहुत शुभकामनायें।

Suman said...

दीपावली, गोवर्धन-पूजा और भइया-दूज पर आपको ढेरों शुभकामनाएँ!

विशिष्ट पत्रिकायें