समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Tuesday, August 7, 2007

तुलसीदास जीं ने यह भी कहा है

  1. कवित रसिक न राम पद नेहू। तिन्ह कहै सुखद हास रस एहू ॥

    भाषा भनिति भोरी मति मोरी । हंसिबे जोग हँसे नहिं खोरी


जो न तो कविता के रसिक है और न जिनका श्री रामचंद्र जीं के चरणों में प्रेम है उनके लिए यह कविता सुखद हास्य रस का काम देगी। प्रथम तो यह भाषा की रचना है, दूसरे मेरी बुद्धि भोली है, इससे यह हंसने के योग्य ही है, हंसने में कोइ दोष नहीं है।

प्रभु पद प्रीति न समुझि नीकी। तिन्हहि कथा सुनी लगाही फीकी
हरी हर पद रति मति न कुतरकी। तिन्ह कहैं मधुर कथा रघुवर की ॥

जिन्हें न तो प्रभु के चरणों से प्रेम है और न इसकी समझ ही है उनको यह कथा सुनने में फीकी लगेगी। जिनकी श्री हरि(श्री भगवान् विष्णु ) और श्री हर (भगवान् शिव ) के चरणों में प्रीति है और जिनकी बुद्धि कुतर्क करने वाली नहीं है उन्हें श्री रघुनाथ जी कि यह कथा सुनने में मीठी लगेगी।

1 comment:

अनूप शुक्ला said...

सही है। तुलसीदास जी ने बहुत कुछ कहा है। लोग अपने मतलब का ले लेते हैं।

विशिष्ट पत्रिकायें