समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Friday, June 22, 2007

संत कबीर वाणी

NARAD:Hindi Blog Aggregator

सहज तराजू आणि के, सब रस देखा तौल
सब रस मांही जीभ रस, जू कोय जाने बोल
इसका आशय यह है कि इस विश्व में विभिन्न प्रकार के रस है और सब रसों को सहज भाव से ज्ञान की तराजू पर तौलकर देख और परख लिया। सब रसों में जीभ का रस ही सर्वोत्तम और ज्यादा महत्वपूर्ण है, अगर कोई सुन्दर और मधुर भाषा में बोल सके तो।
मुख आवै सोई कहै ,बोले नहीं विचार
हते परायी आत्मा, जीभ बाँधी तलवार
कुछ अविवेकी लोग ऐसे होते हैं, जो विचारकर नहीं बोलते। बस अपने मन में जो उलटा-सीधा आये बकते ही जाते हैं। आइए लोग पानी जीभ में कड़वे और कठोर वाक्य रूपी तलवार दूसरों की आत्मा को कष्ट देते ही रहते हैं ।
*लेखक की राय में ऐसे लोगों के उपेक्षा कर देना चाहिए
सूचना -बहुत प्रयास करने पर भी कई ऐसे शब्द हैं जो यहां ऐसे टाईप नहीं हो पाते जैसे किताबों में हैं, अत सुधि पाठक इसे क्षमा करेंगे, हमारा मुख्य उद्देश्य अपने संतो की वाणी से लोगों को अवगत करना है। इस ब्लोग पर धीरे -धीरे और भी संतों के अमृत वचनों को प्रस्तुत किया जायेगा।

1 comment:

bhuvnesh said...

bahut accha blog hai
aise hi post padhne milte rahenge aasha hai. nahi to aajkal narad pe jaane ka man hi nahi hota..

विशिष्ट पत्रिकायें