समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

Sunday, March 16, 2008

संत कबीर वाणी:प्रेम-प्रेम तो सब करते हैं पर उसका मार्ग कोई नहीं जानता

दुनिया ऐसी बावरी, पाथर पूजन जाहि
घर की चकिया कोऊ न पूजै, जी को पीसो खाहि



संत शिरोमणि कबीरदास जी कहते हैं कि दुनिया के लोग इतने बावले हैं कि घर के बाहर पत्थरों को पूजने जाते हैं पर घर में मौजूद पत्थर की चक्की को नहीं पूजते जिसका पीसा हुआ आटा खाते हैं।


प्रेम-प्रेम सब कोई कहैं, प्रेम न चीन्है कोय
जा मारग साहिब मिलै, प्रेम कहावै सोय


संत शिरोमणि कबिदास जी कहते हैं कि संसार में सभी लोग प्रेम-प्रेम टू करते हैं किन्तु प्रेम का मतलब कोई नहीं जानता। जिस रास्ते पर चलकर परमात्मा का दर्शन होता है वही सच्चा प्रेम का मार्ग हैं।

3 comments:

रवीन्द्र प्रभात said...

प्रेरक है,अच्छा लगा पढ़ कर !

mahendra mishra said...

प्रेरक प्रसंग बहुत बढ़िया

परमजीत बाली said...

प्रेरणादायक प्रस्तुति।सुन्दर!

विशिष्ट पत्रिकायें